🌹🌹🌹🌹 LiFE MANTRA 💐💐🌹🌹

null 🌹🌹🌹🌹 LiFE MANTRA 💐💐🌹🌹 :::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: ::::::::::::: 💐💐💐 खुद से बोले सच :::::💐💐💐 Sabhi vyakti चाहते हैं कि उनके बच्चे उनके बच्चे कि उनके बच्चे उनके बच्चे हैं कि उनके बच्चे उनके बच्चे कि उनके बच्चे उनके बच्चे प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल हो इसके लिए उन पर दबाव बनाते हैं बच्चे माता पिता की बात मान की बात मान उस राह पर चल पड़ते हैं चल पड़ते हैं अरे जरूरी नहीं कि नहीं कि उन्हें कामयाबी ही मिल जाए आखिर कैसे चुने चुने आखिर कैसे चुने चुने सही रास्ता! कई बार मैंने मैंने अपने फ्रेंड और लोगों से सुना है और बहुत से स्टूडेंट्स यही सवाल करते हैं की पेरेंट्स कहते हैं कि यह करो यह मत करो वह दूसरों का उदाहरण देते हैं कि उसने ऐसा किया था इतनी मेहनत की थी इसलिए आज करे की बुलंदियों पर हैं बुलंदियों पर हैं लेकिन बच्चे कहते हैं कि पेरेंट्स और रिश्तेदारों की इतनी सारी उम्मीदों के साथ भी कंफ्यूज हो जाते हैं कि आखिर करें तो क्या करें कोई विकल्प नहीं सोचने पर जी जान से जुट जाते हैं आईआईटी आईआईएम जाते हैं आईआईटी आईआईएम मेडिकल जैसी परीक्षाओं की तैयारी में मेहनत करते हैं लेकिन दिशा सही नहीं होने से मंजिल नहीं मिलती इसलिए सबसे पहले बच्चों को सही दिशा देना जरूरी यह खुद उन्हें देखना होगा कि अपने मन से लड़ाई कर रहे हैं या दूसरों की देखा देखी इसका 2 तरीके से तरीके से पता लगाया जा सकता है पहला की कंपटीशन कहां है और आप कहां ध्यान लगा सकते हैं आपकी एकाग्रता कैसी हैं इसके लिए आपको खुद से सच बोलना होगा अपनी स्कूली परफॉर्मेंस को जांचे उसका परफॉर्मेंस को जांचे उसका आकलन करने के बाद ईमानदारी से सवाल पूछे कि क्या आप मेरे का करता करता का करता करता मेरे का करता करता का करता है उन लाखों बच्चों के प्रतिस्पर्धा करने की जो देश के कोने कोने से प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आते हैं हर किसी की क्षमता अलग अलग हो सकती हैं हो सकती हैं क्योंकि हर बच्चा एक जैसा नहीं होता इसलिए अपने दिमाग को खोलें सोचे और फिर फैसले मेहनत के साथ स्मार्ट पार्क करना होगा। 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐🌷🌷 सही तरीके से सही दिशा में किया गया कार्य अमित पलता की बुलंदियों पर पहुंचाता है यह सफलता की बुलंदियां की बुलंदियां हासिल करवाता है। 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌹🌹🌹🌹 हमें वह कार्य कार्य करना चाहिए जिसमें जिसमें सफल होने की उम्मीद अधिक हो आज के समय में अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चों को इस प्रकार से जाते हैं उन पर एक प्रकार का दबाव डालते हैं कि तुम 6 घंटे की जगह 10 घंटे पढ़ो जिससे आपके नंबर एग्जाम में अधिक आएं आएं अधिक आएं आएं दबाव की वजह से बच्चा अधिक रात तक पड़ता पड़ता है और सुबह जल्दी से उठता है जब बच्चा स्कूल जाता तो नींद पूरी न होने के कारण बच्चा अपनी नींद कक्षा में करता उसका पढ़ाई में मन नहीं लगता धीरे-धीरे एक अच्छा विद्यार्थी अपनी पढ़ाई को अच्छी तरीके से नहीं सीख पाता वही दूसरा बच्चा जो कुछ समय पहले कमजोर था वह अच्छे नंबर लाता है और यह प्रक्रिया अक्सर गांव में बच्चे अपने पिताजी के सामने अपनी बात को कहने से कतराते हैं वह सोचते हैं कि अगर मैंने पिताजी से का पिताजी मैं इंजीनियर नहीं बनूंगा का पिताजी मैं इंजीनियर नहीं बनूंगा मैं इंजीनियर नहीं बनूंगा पिताजी मुझे डेंगे क्योंकि बचपन से लेकर पेरेंट्स बच्चों पर अधिक दबाव डालते हैं गांव की अपेक्षा शहरों में पेरेंट्स अपने अपने बच्चों पर कम दबाव डालते हैं जिससे बच्चे अपने मनपसंद करियर को चुनते और अपने पिताजी को कैरियर के बारे में बताते हैं पेरेंट्स भी बच्चों का सपोर्ट करते हैं और बच्चे अपनी मंजिल को हासिल कर पाते हैं आप अपने बच्चों को स्वयं कैरियर चुनने दें जरा हम और आप सभी लोग मिलकर सोचें कि अगर हम किसी कार्य को नहीं करना चाहते हैं अगर कोई हमसे जबरदस्ती उसी काम को कर आता है तो हम है तो हम उसे उतनी अच्छी ढंग से नहीं कर पाते। ✍✍✍✍point:-🌹🌹🌹🌷 आप अपने बच्चों ko Swayam career chunne ka Sahas De aur bacche ki Ruchi ke hisab se aap bhi bacchon ka Sahyog Karen aap Sabhi Log Yaha ki Cricket ke Bhagwan se jaane wale Sachin Tendulkar ke pita ji ne kaha hota hai beta Tu hi doctor Ban Ja तो क्या सचिन तेंदुलकर एक तो क्या सचिन तेंदुलकर अच्छे डॉक्टर बन सकते थे आंसर नहीं नहीं बन सकते सचिन तेंदुलकर की बचपन से बचपन से से क्रिकेट मैच अगर वह स्वयं अपने कैरियर को नाच उनके तो शायद भारत को एक इतना अच्छा बल्लेबाज नहीं मिल पाता इसी प्रकार अगर लता मंगेशकर ने स्वयं अपने कैरियर का चुनाव ना किया होता तो भारत को एक अच्छी गायिका कहां मिलती इसलिए आप से मेरा विनम्र निवेदन है कि आप अपने बच्चों को स्वयं कैरियर चुनने की सलाह थी लाइफ मंत्रा🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Published by mind power education

i complete the mind power training,meditation,brain power,and other,so I am as a trainer.

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: